Gotra & Kuldevi of Rankawat Samaj

 

Rankawat Samaj ke Gotra & Kuldevi

                                                                        _________________________________________________________________________

 

Salasar Balaji rankawat samajरांकावत समाज में कुलदेवी या देवताओं के स्थान इष्टदेवता की पूजा की जाती है क्योकि समाज में कई परिवार हैं जिनको कुलदेवी की जानकारी नहीं है। किसी कारणवश अपना मूल स्थान छोड़ दिया और परिवर्तनशील समय के अनुसार पूर्वजों द्वारा स्थापित कुलदेवी मंदिर भी नहीं जा पाए। आगे की पीढ़ियां अपनी कुलदेवी या देवता के बारे में नहीं जानते हैं। वर्तमान समय में रांकावत समाज में इष्टदेव हनुमान जी को मानते हैं। समाज के अधिकांश लोग सालासर धाम की यात्रा करते हैं, जो सुजानगढ़ चूरू में स्थित है, और वहां पर जात - झाडुला भी लगाते है।

गोत्र समकालीन वंश खंड एक संयुक्त परिवार के रूप में कार्य करता है। गोत्र मूल रूप से भारतीय वंश के सात वंश खंडों मूल रूप से उन सात वंशों से संबंधित होता है, जो अपनी उत्पत्ति सात ऋषियों से मानते हैं। ये सात ऋषि - अत्रि, भारद्वाज, भृगु, गौतम, कश्यप, वशिष्ठ, विश्वामित्र। वैदिक हिंदू धर्म के प्रसार के साथ आठवें गोत्र को शुरू में अगस्त्य के नाम से जोड़ा गया और गोत्रों की संख्या बढ़ती चली गई। छोटे स्तर पर साधुओं से जोड़कर हमारे देश में कुल 115 गोत्र पाए जाते हैं। रांकावत समाज में ही नहीं सभी भारतीय समाज में स्थान के नाम पर, पूर्वजों के नाम पर, मंदिर के नाम पर भी गोत्र बन गए है। कुछ गोत्र उच्चारण में भिन्नता होने के कारण और अपभ्रंश के कारण भी बन गए। लेकिन शास्त्रों में इनका उल्लेख नहीं मिलता है। ऋषियों की संतान को गोत्र घोषित किया गया है। बाद के समय में जब वैदिक द्रष्टा के लिए एक रेखा का दावा किया गया तो गोत्र की संख्या में वृद्धि हुई। एक ही गोत्र के सदस्यों के बीच विवाह की मनाही का उद्देश्य गोत्र को विरासत में मिले दोषों से मुक्त रखना था और अन्य शक्तिशाली वंशावली के साथ व्यापक गठबंधनों द्वारा एक विशेष गोत्र के प्रभाव को व्यापक बनाना था।

 

रांकावत समाज में ज्ञात गोत्र की संख्या लगभग 225 है।

Rankawat Samaj Gotra

Click on Gotra to see Gotra Rishi and Kuldevi

Aaithan/ Aaidan Abhor  Achapada  Adwadiya
 Agarwal Ahiwal Angira / Angiras Anop
Ankhisariya Adola  Aror / Arod / Aarora Awading
Babra Babrwal Badba Badbara
Badela Bagdiya Banshiwal Bavrecha/ Bagrecha/ Bakrcha
Bawriya Bhadawat Bharut Bhati
Bhattar Bherutiya Bhobhariya / Bhobharwal Bhutta
Borana Borawad / Boraida Bhutiwal Chada / Chasta
Chandawat Chandela Chanderiwal Chandoliya
Chandora / Chandola Chandrawal Chaparwal / Chapola Charpariya
Chatur Chidimariya Chipchipiya Chugalwal
Chundwal / Chaluwal Dadra / Dadrwal Dagwal Deyiwal / Daiwal
Daiya Dal Dewat Dhadewal
Dhandhal Dhaneriya Dhankar Dharnidhar
Dhayal  Dhola Dhudiya Dhumliya
Dhundhawal Dyani Gadrakh Ghantal / Ghantol / Ghital
Ghantelwal / Ghantaliya Ghodabad Ghodela / Ghudla Ginad
Girdhar Girjawal / Gidwal / Giriwal / Girwal Godhad / Gedhad Golwal / Golwa
Gorsya / Goriya Gotecha / Gotarcha Gothiya Gotwal / Ghodwal
Goyada Goyal Guda / Goud Gudiyawal / Gothwal
Gugaliya / Gurguriya Gujariya Hada Hanspal / Hansraj
Haritwal Harkare Hunchal / Hunchariya Hundiwale
Inaniya/ inania Jajda Jakhad Jalndhar / Jaldhara
Jalwa Jamnwal / Jamlwal Jasodiya/ Jasoiwal Jayalwal / javalwal
Jinjaniya / Jijniya Jinjodiya / Jinjhodiya / Jijhanod Jinjonotiya  Junjodha / Janjodha
Joginandia Kabriwal Kacholiya Kachuriy
Kagadwal Kagdiya / Kawadiya Kagecha Kagwal
Kakda Kalesra Kalwa Kanderiwal/ Kanderival/ Kandelwal
Kankriya Kargwal Karwa Kasunbiwal
Kathahar / Katahar Katiwal / Kariwal Kelansariya Keriwal
Khaiwal Khandelwal Khardawal  Kharnariya
Khatod Khatol Kheriwal Khokharwal
Khodula Khudiwal/ Khudiyal/ khudiya/ Khuda Khudiya Kitala / Kita
Kotecha Kuchera Kudal Kudniya
Kuldiya Kuntliya Kungecha Ladnwa
Ladwa Lakhesari /Lakhesar Lamba Lekhawat
Loudhiya / Loudiya Madhawat / Salecha Malaviya Manawat
Madora / Mandora / Mandowara Mandvi / Mand Mandvya / Mandariwal  Manglachar
Mangliya Manjhiwal / Manjhuwal Manora / Mannora Mahar / Mar
Moral Mordhwaj Moyal Nagoura
Nahar/ Neharwal Nahwal Nanecha  Nimbiwal / Nemiwal
Nimbuwa Nokwal Paisiya Paliwal
Panwal Parmhans Parwal Parwtiya
Parva Pedwal Peshwa/ Pewa Piliya
Rajniya Ramina / Rajmani Ratawa / Ratiwal Rediwal
Roicha Rota / Rotangan / Rotagan Sainwal Sakawal / Sarkawal
Sanchora Sanklecha Sarda Sarswa / Sarswal
Sarwa Serdiwal / Sadiwal Sibtiya / Suvtiya Singota
Singotiya / Singrotiya Siniwal / Sindiwal Sisodiya Sitala
Sitapuriya Siyota Sokal Sompuriya
Sosniwal Sostiwal Sukhal / Sankhola Sunda
Surana Sutwal Suvta / Suvtwal Tak
Tanka / Tamkor Tankiwal/ Tankarwal Thosar Tiwari / Tiwadi
Toda/ Tusda Tukara / Tukariya Tumbiwal Tuntuniya
Tushare / Tushar Ubha Udecha Udewal
Ugrawal / Ugrapal Utiyawal Vavra Vasniwal  
 Mamudiya  Kirodiwal  Bhardwaj Jethiwal

समाज बन्धु के पास समाज के गोत्र के बारे में और अधिक जानकारी है तो कृपया जानकारी साँझा करें, जिससे समाज को पूर्ण जानकारी मिल सके।

 

Rankawat Swami Samaj DharamSala & Marriage Places in India

Gotra & Kuldevi of Rankawat Samaj

Rankawat Samaj Ki Kuldevi

सनातन धर्म में गोत्र का महत्व